Hindi Story प्रेरणादायक हिंदी कहानी हिंदी कहानियाँ हिंदी कहानी

किसान राजकुमारी – हिंदी कहानी | Farmer Princess – Hindi Story

क‌हानी:-  किसान राजकुमारी। 

राजकुमारी प्रिया :- 
                         प्रिया राजा की बेटी थी  वे थी तो राजकुमारी परंतु किसान बनना चाहती थी यह बात उनके पिता राजा को पसंद नहीं थी तो प्रिया के पिता ने उसे राज महल से निकाल दिया राजा ने प्रिया से एक बात कही की महल से बाहर होगी तो जीवन की कठिनाइयों को समझ पाओगी तभी तुम्हें होश आएगा |
प्रिया :- प्रिया ने बचपन से बहुत से बिज जमा किए थे | उन्हें लेकर वह महल से बाहर चली गई | और वह किसी जंगल में झोपड़ी बनाकर वह वहा रहने लगी | आसपास की जमीन पर उसने वह बीज बो दिए प्रिया कड़ी मेहनत करने लगी और इसलिए बिल्ली तोता मकड़ी इसकी मदद करते थे | बिल्ली खेती का ध्यान रखती थी |मकड़ी झोपड़ी का ध्यान रखती थी,  और तोता राज्य भर की साभी समाचार सुनाता था और चारों सभी मिलजुल कर रहते थे | प्रिया के हरे भरे खेतों का जब राजा को पता चला तो वह राजा भगवान इंद्र के पास |और राजा ने भगवान इंद्र से प्रिया को सबक सिखाने की मदद मांगी |
तभी इंद्र भगवान बोले मैं धरती को सूखा रखूंगा बारिश नहीं होने दूंगा तभी प्रिया के खेत सूख जाएंगे और फसल जल जाएगी |तभी तोता भगवान इंद्र की और राजा की सारी बात सुन लेता है और वह सारी बात प्रिया को बता देता है प्रिया ने फैसला लिया वे नदी के किनारे अपना खेती करेगी | सूखा तो पडा लेकिन प्रिया की फसल हरी भरी थी| तभी भगवान इंद्र यह देखकर क्रोधित हो गए और राजा से बोले मैं प्रिया की फसल खराब करने के लिए धरती पर बाढ भेजूंगा और सारी फसल बह जाएगी तो  प्रिया को अक्ल आ जाएगी| इस बार तोते ने सारी बात प्रिया को बता दी | इस बार प्रिया ने फसल पाहाडी के ढलान पर बोई | फिर से राज्य की फसल बर्बाद हो जाती है खराब हो जाती है
लेकिन प्रिया की फसल खराब नहीं होती है और हरी भरी रहती है इंदर इस बार फिर क्रोधित हो जाता है और बोलता है इस बार में बहुत सारे चूहे भेजूंगा और तोते ने यह सारी बात सुन ली और बिल्ली को जाकर बता दी | बिल्ली ने तोते को बोला मैं अपनी सारी सहेलियों को चूहों को खाने के लिए बुला लेती हूं बहुत मजा आएगा | इस प्रकार सभी बिल्लियों ने मिलकर चूहों को खा लिया और एक बार फिर इंद्रदेव बहुत नाराज हो गए | इंद्रदेव फिर बोले इस बार में चिड़िया को भेजूंगा और सारी फसल खा लेंगे यह बात तोते ने सुन ली और मकड़ी को बताई मकड़ी ने इस बार फसल के ऊपर अपने दोस्तों के साथ मिलकर जाली लगा दी | चिड़िया जब फसल को नष्ट करने पहुंची तब उनके पैर जाली में अटक गए | और प्रिया की फसल फिर से बच गई |
परंतु राजा की मुसीबत बढ़ गई |राजा की बाढ़ की वजह से बहुत सारा नुकसान हो गया |और राजा फिर से इंद्रदेव के पास गए मदद के लिए | इंद्रदेव राजा को बोले मेरे पास क्यों आए हो तुम्हारी बेटी तो राज्य में अनाज बांट रही है इंदर देव और राजा जब जंगल में गए तब देखा कि प्रिया और उनके दोस्त लोगों में अनाज बांट रहे हैं | राजा यह देकर बोहत लज्जित हुआ | यह देखकर राजा अपनी प्रिया बेटी पर गर्व महसूस किया | इंद्रदेव ने सुप्रिया की तारीफ की और राजा ने अपनी बेटी प्रिया को महल में वापस चलने को बोला और प्रिया ने मना कर दिया और वह अपने दोस्तों के साथ खुशी-खुशी जंगल में वापस लौट गए | और प्रिया ने अपने पिता को माफ कर दिया और वह किसान राजकुमारी के नाम से प्रसिद्ध हुई |

Leave a Reply

Your email address will not be published.