Hindi Story प्रेरणादायक हिंदी कहानी हिंदी कहानियाँ हिंदी कहानी

तीन अच्छे दोस्त – हिंदी कहानी | Three Best Friends – Hindi Story

कहानी :- तीन अच्छे दोस्त 

कोल्हापुर नाम के एक गांव में तीन दोस्त रहा करते थे करण, कार्तिक ,राहुल, तीनों बहुत अच्छे दोस्त थे | उन तीनों को अपने देश के राजा से बहुत लगाव tha

राजा :- मैंने सुना है कि मुझसे और मेरे परिपालन से बहुत लगाव है इसलिए आप तीनो को बुलवाया है आप तीनों को नौकरी देने का मेरा इरादा है | पर इससे पहले मेरे परिपालन और प्रजा की समस्या के बारे में आपको जानकर आना होगा | अब आप जाइए |

फिर वह तीनों एक साथ निकल पड़े और रामपुर नाम के गांव पहुंचे | उन तीनों ने सुना था कि रामपुर में कुछ विचित्र चीज मिलते हैं |

करण :- देखो भाई एक महीने के बाद हम तीनों यहीं पर मिलेंगे और इसी दिन उसके बाद तीनों मिलकर फिर राजा जी से मिलने जाएंगे |

फिर वह तीनों अलग-अलग रास्ते चल पड़े |

कुछ दिन बाद महाराज अस्वस्थ हो गए | वेद राज ने उनकी जांच की और कहा कि इनका बचना मुश्किल है | तू गांव में ढिंढोरा लगा सुनो सुनो सुनो सारे गांव वाले सुनो महाराज बहुत बीमार है | अगर कोई उनकी बीमारी का इलाज कर सके तो आधा राज्य उनको दे दिया जाएगा |

एक महीने बाद राहुल रामपुर वापस आया उनसे एक व्यक्ति ने मिलकर कहा |

व्यक्ति :– भाई एक दिव्य संतरा फल है संतरे का रस किसी भी बीमार व्यक्ति को पिलाया जाए तो वह बीमार ठीक हो सकता है | इसका दाम हजार स्वर्ण मुद्राएं है राहुल ने उसे खरीद लिया | उसके बाद वह अपने दोस्तों को ढूंढने लगा |

इसके बाद करण गांव पहुंचा | करण को एक दुकान में गलीचा दिखा |

 

दुकानदार :- भाई यह कोई मामूली गलीचा नहीं है यह उड़ने वाला गलीचा है जहां चाहे वहां इस गलीचे से उड़ कर जा सकते हो इसका दाम पांच हजार स्वर्ण मुद्राएं है |फिर करण ने उस गलीचे को खरीद लिया |

कुछ देर बाद कार्तिक वहां आकर पहुंच गया | कार्तिक को एक औरत मिली और औरत ने उससे कहा ?

औरत :- देखिए यह जादुई आईना है हम किसी के बारे में सोचें तो उनका चेहरा इसमें दिख जाता है इसका दाम बस चार हजार स्वर्ण मुद्राएं है | कार्तिक ने उस आईने को खरीद लिया |

फिर कार्तिक ने उस आईने से कहा आईना आईना जरा बताओ हमारे महाराज की हालत में है। तब उसने देखा आईने में बीमार महाराज बिस्तर पर पड़े हुए हैं वेद मंत्री से कह रहे थे अब कुछ नहीं किया जा सकता कुछ ही घंटों के मेहमान है यह देखकर कार्तिक पूरी तरह घबरा गया | इतने में बाकी दोनों आकर कार्तिक से मिले | फिर कार्तिक ने सारी बातें उन दोनों को समझाई |

इसके बाद तीनों करण के उड़ते हुए गलीचे पर बैठे वह तीनों आसमान में उड़ते-उड़ते वह महाराज के राज महल पहुंच गए |

तुरंत राहुल ने संतरे का रस महाराज के मुंह में डाला फिर कुछ देर बाद महाराज उठ खड़े हुए यह देखकर सभी लोग बहुत खुश हुए | दूसरे दिन सभा में महाराज ने कुछ कहा ?

 

महाराज :- महामंत्री इन तीनों ने मिलकर मेरी जान बचाई आधा राज्य इन तीनों में से किसको दे | यह हमें समझ में नहीं आ रहा है इस समस्या का हल कैसे निकाले |

 

महामंत्री :– तब महामंत्री ने कहा महाराज इन तीनों ने मिलकर आपकी जान बचाई कार्तिक ने आईने में देखा तब पता चला आप की तबीयत खराब है अपने गलीचे के माध्यम से करण ने इनकी मदद की फिर राहुल ने दिव्य संतरे से आप की जान बचाई यहां पर तीनों ने सम्मान मदद की परित्याग सिर्फ राहुल ने किया | क्योंकि कार्तिक का आईना और करण का गलीचा इनको फिर काम आएंगे राहुल का संतरा फिर उसका काम कभी नहीं आएगा | क्योंकि राहुल ने सबसे ज्यादा त्याग दिया है |मेरी सलाह है आप आधा राज्य राहुल को ही दिया जाए|

 

महाराज :–  महाराज ने कहा शबाश मंत्री जी शब्बास क्या विश्लेषण किया है आपने मैं राहुल को आधा राज्य जरूर दूंगा साथ साथ में करण और कार्तिक को बड़े पद पर नियुक्त करूंगा |

तो मित्रों इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कोई भी आपकी सहायता करता है तो उसे कभी मत भूलना |

0 Replies to “तीन अच्छे दोस्त – हिंदी कहानी | Three Best Friends – Hindi Story

Leave a Reply

Your email address will not be published.